उत्तराखंडः यूरोप की तर्ज पर लड़ेंगे राजाजी पार्क में आग से जंग

देहरादून : वक्त के अनुरूप खुद को ढालकर चलने में ही समझदारी है। देर से ही सही कम से कम राजाजी टाइगर रिजर्व प्रशासन की समझ में ये बात आ ही गई। जंगल की आग से निबटने को किए जा रहे विश्व स्तरीय उपायों को देखकर तो यही लगता है। इस कड़ी में परंपरागत उपायों
 | 

देहरादून : वक्त के अनुरूप खुद को ढालकर चलने में ही समझदारी है। देर से ही सही कम से कम राजाजी टाइगर रिजर्व प्रशासन की समझ में ये बात आ ही गई। जंगल की आग से निबटने को किए जा रहे विश्व स्तरीय उपायों को देखकर तो यही लगता है। इस कड़ी में परंपरागत उपायों से इतर यूरोपीय देशों की तर्ज पर आग बुझाने के लिए अब आधुनिक उपकरणों का इस्तेमाल किया जाएगा। इस क्रम में सफल ट्रायल हो चुका है और उम्मीद है कि अपै्रल प्रथम सप्ताह तक कार्मिकों को लीफ ब्लोअर, स्प्रिंकलर जैसे उपकरण उपलब्ध हो जाएंगे।

71 फीसद वन भूभाग वाले उत्तराखंड में फायर सीजन (15 फरवरी से 15 जून) के दौरान जंगलों की आग बुझाने के लिए अब तक उपयुक्त औजार झांपा (पेड़ों की हरी टहनियों को तोड़कर बनाया जाने वाला झाड़ू) ही रहा है। लेकिन, राजाजी टाइगर रिजर्व में यह परंपरा टूटने जा रही है।

819.54 वर्ग किमी के कोर और 255.63 वर्ग किमी के बफर जोन में फैले रिजर्व में अब आग बुझाने के लिए ठीक वैसे ही आधुनिक उपकरण इस्तेमाल में लाए जाएंगे, जैसे यूरोपीय देशों में प्रयुक्त होते हैं।

रिजर्व के निदेशक सनातन सोनकर बताते हैं कि यूरोप के अधिकांश देशों में लीफ ब्लोअर, स्प्रिंकलर जैसे उपकरणों से आग बुझाते हैं। जर्मनी में यह सबसे ज्यादा सफल रहा है। इसे देखते हुए यहां भी इनके इस्तेमाल का निश्चय किया गया। फिर उपकरण मंगाए और रिजर्व की सभी 10 रेंजों में इनका ट्रायल सफल रहा।

लीफ ब्लोअर से फायर लाइनों की सफाई के साथ ही कंट्रोल बर्निंग ज्यादा आसान हो रही तो स्प्रिंकलर के साथ ही टैंकरों के जरिए हाइडेंट सिस्टम (मिनी फायर ब्रिगेड की तरह) से पानी का छिड़काव कारगर रहा। उन्होंने बताया कि अब रिजर्व के लिए 10-10 लीफ ब्लोअर व स्प्रिंकलर मंगाए जा रहे हैं। हाइडेंट सिस्टम के लिए दो ट्रैक्टर व 10-10 हजार लीटर क्षमता के दो टैंकर मंगा दिए गए हैं। इन्हें रिजर्व की दक्षिणी सीमा में तैनात किया गया है।

उपकरणों की खासियत

लीफ ब्लोअर :- कैरी करने में आसान,  एक घंटे में एक किमी फायर लाइन की सफाई करने व फायर लाइन काटने में सक्षम, एक लीटर पेट्रोल से चलता है डेढ़ घंटा।

कैरी स्प्रिंकलर :- 10 लीटर क्षमता का टैंक, ले जाने में आसान।

हाइडेंट सिस्टम :- टै्रक्टर के जरिए पानी के टैंकर से ठीक उसी तरह आग बुझाई जाती है, जैसी फायर ब्रिगेड से। यह 100 मीटर तक पानी की बौछार छोडऩे में सक्षम

ये भी किए गए हैं उपाय

-655.61 किमी फायर लाइनों का फुकान

-402.56 किमी मोटर मार्ग किए दुरुस्त

-39 क्रू-स्टेशन

-13 वाच टावर

-150 कच्चे वाटर होल

-60 पक्के वाटर होल

-240 कार्मिक आग बुझाने को तैनात