जेईई मेन: ऑफलाइन निपटा अब ऑनलाइन की बारी

देहरादून : जेईई मेन की ऑफलाइन परीक्षा निपट चुकी है और अब बारी ऑनलाइन मोड की है। ऑनलाइन परीक्षा आठ व नौ अप्रैल को होगी। ऑफलाइन एग्जाम देने वाले छात्रों के पास बोर्ड परीक्षा के कारण कम समय था, जबकि ऑनलाइन एग्जाम देने वालों को कुछ अतिरिक्त समय मिला है। यह रिवीजन का वक्त है और
 | 

देहरादून : जेईई मेन की ऑफलाइन परीक्षा निपट चुकी है और अब बारी ऑनलाइन मोड की है। ऑनलाइन परीक्षा आठ व नौ अप्रैल को होगी। ऑफलाइन एग्जाम देने वाले छात्रों के पास बोर्ड परीक्षा के कारण कम समय था, जबकि ऑनलाइन एग्जाम देने वालों को कुछ अतिरिक्त समय मिला है। यह रिवीजन का वक्त है और तैयार किए गए टॉपिक पर अच्छे से फोकस करें। साथ ही सेल्फ इवेल्यूशन भी करते रहें।

देश के शीर्ष इंजीनियरिंग संस्थान में प्रवेश के लिए होने वाली परीक्षा जेईई मेन की बीते रविवार ऑफलाइन परीक्षा आयोजित की गई। जिसमें गणित के सवालों ने अभ्यर्थियों को खूब उलझाया। गणित का सेगमेंट न सिर्फ लंबा बल्कि ट्रिकी भी था। जबकि कैमिस्ट्री व फिजिक्स को अभ्यर्थियों ने औसत बताया है।

ऑनलाइन परीक्षा देने जा रहे अभ्यर्थियों के पास न सिर्फ अतिरिक्त समय है बल्कि वह ऑफलाइन से पेपर के ट्रेंड का भी अंदाजा लगा सकते हैं। अविरल क्लासेज के प्रबंध निदेशक डीके मिश्रा के अनुसार ऑनलाइन परीक्षा में ऑफलाइन के मुकाबले ज्यादा सर्तकता की आवश्यकता है, लेकिन यह परीक्षा अधिक सुविधाजनक होती है। यदि कुछेक छुटपुट बातों का ख्याल रखा जाए तो बेहतर परिणाम मिल सकते हैं।

इनका रखें ख्याल 

-ऑनलाइन परीक्षा में शामिल होने के लिए कंप्यूटर की हल्की-फुल्की जानकारी पर्याप्त है।

-अगर ऑनलाइन परीक्षा दे रहे हैं तो सवाल हल करने की गति के प्रति गंभीर रहें। रफ कार्य करने के बाद ही सही उत्तर को क्लिक करें।

-किसी भी प्रकार की तकनीकी दिक्कत आने पर तुरंत अपने परीक्षा कक्षा निरीक्षक को इस बारे में अवगत कराएं

-यदि किसी वजह से कुछ देर सर्वर डाउन हो जाता है तो छात्रों को अतिरिक्त समय दिया जाएगा। इसलिए सर्वर की समस्या से न घबराएं।

-जब प्रश्नपत्र मिल जाए तो उसे पहले पढ़ें। इसके बाद तीन घंटे के ऑनलाइन समय को अलग-अलग हिस्सों में बांट लें। सवाल का जवाब पूर्ण करने के बाद उसे चेक कर लें।

-ऑनलाइन पैटर्न में एक सुविधा यह भी है कि यदि आपने गलत जवाब पर क्लिक कर दिया है तो आप उसमें बदलाव कर सकते हैं।

-प्रश्नपत्र को पढऩे के बाद अगर इसका हल मुश्किल लग रहा है तो घबराएं नहीं।

-जिन सवालों के उत्तर आप जानते हैं, उन्हें ठीक से हल करने का प्रयास करें।

-ऑनलाइन परीक्षा में एक बार गलत जवाब भरने के बाद भी उसमें सुधार करने का मौका होता है।

-आपने कितने सवाल हल किए, इसकी जानकारी कंप्यूटर स्क्रीन पर नजर आती रहेगी।

कर सकेंगे सवालों को चैलेंज

जेईई मेन का परिणाम 27 अप्रैल को जारी होगा। इससे पहले 18 से 22 अप्रैल तक आंसर की और रिस्पांस शीट की इमेज जारी की जाएगी। छात्र आंसर की को देखकर सवाल पर चैलेंज कर सकते हैं। एक सवाल को चैलेंज करने की फीस एक हजार रुपए होगी।

180 अंकों पर मिलेगा टॉप एनआइटी

जेईई मेन में 180 से 200 नंबरों के बीच लाने वाले अभ्यर्थियों को टॉप एनआइटी में दाखिला मिल जाएगा। राहत की बात यह है कि इस साल जेईई एडवांस के लिए दो की जगह दो लाख 20 हजार बच्चों को क्वालीफाई किया जाएगा। इससे कटऑफ स्कोर पिछले साल के मुकाबले अधिक नहीं जाएगा।