पर्यटन उद्योग से जुड़े लोगों से राहत के नाम पर सरकार कर रही भद्दा मजाकः मोर्चा  

विकासनगर, जन संघर्ष मोर्चा अध्यक्ष एवं जीएमवीएन के पूर्व उपाध्यक्ष रघुनाथ सिंह नेगी ने कहा कि प्रदेश की महादानी व मानसिक रूप से विक्षिप्त सरकार ने पर्यटन उद्योग से जुड़े लोगों को एक-एक हजार रुपये राहत राशि देने की घोषणा की है, जोकि एक भद्दा मजाक है। सरकार को चाहिए किअपनी उपलब्धियों के झूठे विज्ञापनों
 | 
पर्यटन उद्योग से जुड़े लोगों से राहत के नाम पर सरकार कर रही भद्दा मजाकः मोर्चा  
विकासनगर,  जन संघर्ष मोर्चा अध्यक्ष एवं जीएमवीएन के पूर्व उपाध्यक्ष रघुनाथ सिंह नेगी ने कहा कि प्रदेश की महादानी व मानसिक रूप से विक्षिप्त सरकार ने पर्यटन उद्योग से जुड़े लोगों को एक-एक हजार रुपये राहत राशि देने की घोषणा की है, जोकि एक भद्दा मजाक है। सरकार को चाहिए किअपनी उपलब्धियों के झूठे विज्ञापनों पर प्रतिवर्ष खर्च होने वाला करोड़ों रुपया जनता का दर्द दूर करने में लगाए। नेगी ने कहा कि ये उद्योग वर्ष में दो-चार महीने ही चलता है तथा इसी व्यवसाय के सहारे ये लोग वर्ष भर अपने परिवार की आजीविका चलाते हैं।

 

चूकि पर्यटन उद्योग इस महामारी व मंदी के कारण अगले साल तक लगभग ठप्प हो गया है तो ऐसे में सरकार को एक ठोस राहत राशि इन लोगों को प्रदान करनी चाहिए थी, लेकिन हैरानी की बात है कि समाचार पत्रों में छपवाया जा रहा है कि इस घोषणा से इन लोगों में खुशी की लहर है। बड़े शर्म की बात है कि 1000 की रकम में 15-20 दिन के लिए दूध भी नहीं आता। मोर्चा सरकार से मांग करता है की आवश्यक आवश्यकताओं यथा बिजली, पानी, बच्चों की फीस इत्यादि स्वयं वहन कर इनकी चिंता दूर करने की दिशा में काम करें।