फूलों की घाटी में पॉलीथिन ले जाने पर 10 हजार जुर्माना

चमोली : पॉलीथिन पर हाईकोर्ट की सख्ती के बाद नींद से जागे महकमों ने कदम उठाने शुरू कर दिए हैं। इसी क्रम में नंदा देवी राष्ट्रीय पार्क में पड़ने वाली विश्व प्रसिद्ध फूलों की घाटी में पॉलीथिन बैग पर पूर्ण प्रतिबंध लगा दिया गया है। पार्क के प्रभागीय वनाधिकारी (डीएफओ) चंद्रशेखर जोशी ने बताया कि
 | 

चमोली : पॉलीथिन पर हाईकोर्ट की सख्ती के बाद नींद से जागे महकमों ने कदम उठाने शुरू कर दिए हैं। इसी क्रम में नंदा देवी राष्ट्रीय पार्क में पड़ने वाली विश्व प्रसिद्ध फूलों की घाटी में पॉलीथिन बैग पर पूर्ण प्रतिबंध लगा दिया गया है। पार्क के प्रभागीय वनाधिकारी (डीएफओ) चंद्रशेखर जोशी ने बताया कि नियमों का उल्लंघन करने वालों पर 10 हजार रुपये का जुर्माना ठोका जाएगा।

इसके अलावा यहां आने वाले पर्यटक अपने साथ पानी की प्लास्टिक बोतल तो ले जा सकेंगे, लेकिन इसके लिए उन्हें प्रति बोतल 500 रुपये जमा करने होंगे। ये धनराशि वापसी में खाली बोतल दिखाने पर उन्हें लौटा दी जाएगी।

विश्व धरोहर में शामिल फूलों की घाटी में 500 से अधिक प्रजाति के फूल पाए जाते हैं। इसके अलावा नंदा देवी राष्ट्रीय पार्क कई दुर्लभ प्रजाति के जीवों का भी वास है। इसमें कस्तूरा मृग, सफेद और भूरा भालू, स्नो लेपर्ड व घुरड़ शामिल हैं।

अब तक यहां आने वाले हजारों पर्यटक अपने साथ लाए गए पॉलीथिन कैरी बैग और पानी की बोतलें यहां वहां फेंक देते हैं। इससे घाटी के पारिस्थितिकीय तंत्र को नुकसान पहुंच रहा है। डीएफओ जोशी ने बताया कि अगले सीजन से पर्यटक यहां पॉलीथिन नहीं ले जा सकेंगे। गौरतलब है कि मई अंतिम सप्ताह में पर्यटकों के लिए खोल दी जाएगी।