भारतीय सैन्य अकादमी में मिले कई रोचक किस्से

देहरादून : पासिंग आउट परेड के बाद भारतीय सैन्य अकादमी के सोमनाथ स्टेडियम में होने वाले जश्न में जोश, जज्बा और जुनून का भाव तो होता ही है। लेकिन उल्लास के इन्हीं पलों में नजर आती हैं अनूठी और अनोखी कहानियां। भाई-बहन की कदमताल इलाहाबाद, उत्तर प्रदेश के रिटायर कर्नल हुसैन की खुशी का ठिकाना
 | 

देहरादून : पासिंग आउट परेड के बाद भारतीय सैन्य अकादमी के सोमनाथ स्टेडियम में होने वाले जश्न में जोश, जज्बा और जुनून का भाव तो होता ही है। लेकिन उल्लास के इन्हीं पलों में नजर आती हैं अनूठी और अनोखी कहानियां।

भाई-बहन की कदमताल

इलाहाबाद, उत्तर प्रदेश के रिटायर कर्नल हुसैन की खुशी का ठिकाना नहीं था। उनके बेटा-बेटी ने उन्हीं की तरह सेना में कॅरियर चुना है। डेढ़ साल के अंतराल में उनके दोनों बच्चे फौज में अफसर बन गए। बेटी सना फौज में कैप्टन हैं और अब बेटा जैन अब्बास आगा लेफ्टिनेंट बन गया है। केवि में शिक्षिका उनकी पत्नी आफ्शा ने इन लम्हों को बेटा-बेटी को अपने आगोश में लेकर भरपूर जिया।

दोनों बेटों ने किया पिता को सेल्यूट

राजकोट (गुजरात) निवासी नेवी के कैप्टन हेमंत कुमार के लिए ये लम्हे यादगार थे। दोनों बेटों ने उन्हें सैल्यूट किया तो लगा भावनाओं का ज्वार उमड़ आया है। अभी कुछ ही वक्त हुआ है जब उनका बड़ा बेटा ध्रुव नेवी में कमीशन हुआ। अब छोटा बेटा तोशल हेमंत व्यास भी फौज में अफसर बन गया।

पांडे जी की जोड़ी का कमाल 

आइएमए में पांडे जी की जोड़ी से मशहूर रहे चैतन्य पांडे और दिव्यांशु पांडे स्कूल में साथ-साथ पढ़े और अब साथ-साथ आइएमए से पासाउट भी हुए। चैतन्य पांडे हल्द्वानी के रहने वाले हैं और दिव्यांशु पीलीभीत के। दोनों ने सैनिक स्कूल घोड़ाखाल में साथ-साथ पढ़ाई की और देश सेवा की राह पर आगे बढऩे का ख्वाब भी साथ-साथ देखा।

वर्दी में जुड़वां भाई 

यह वाकई एक अनूठा लम्हा था। फौजी वर्दी में जुड़वा भाइयों को पहचान पाना मुश्किल था। लेफ्टिनेंट बने टिहरी के भेटी ग्हारहगांव निवासी सौरभ नैथानी और गौरव नैथानी जुड़वा भाई हैं। इनमें अंतर बस इतना रहा कि गौरव पिछले साल आइएमए से पासाउट हो गए, जबकि सौरभ को अब मौका मिला।