साइबर क्राइम इनवेस्टिगेशन के बारे में जानना जरूरीः डीजीपी

देहरादून। उत्तराखंड के डीजीपी अनिल रतूड़ी का कहना है कि साइबर अपराध में लगातार वृद्धि हो रही है। जिसे रोकने के लिए हमें पारंपरिक विवेचना की छमता वृद्धि के साथ ही साइबर क्राइम इनवेस्टिगेशन के बारे में जानना होगा। देहरादून स्थित पुलिस लाइन में ई-सुरक्षा चक्र कार्यक्रम का शुभारंभ किया गया। इस दौरान डीजीपी ने
 | 
साइबर क्राइम इनवेस्टिगेशन के बारे में जानना जरूरीः डीजीपी

देहरादून। उत्तराखंड के डीजीपी अनिल रतूड़ी का कहना है कि साइबर अपराध में लगातार वृद्धि हो रही है। जिसे रोकने के लिए हमें पारंपरिक विवेचना की छमता वृद्धि के साथ ही साइबर क्राइम इनवेस्टिगेशन के बारे में जानना होगा।

देहरादून स्थित पुलिस लाइन में ई-सुरक्षा चक्र कार्यक्रम का शुभारंभ किया गया। इस दौरान डीजीपी ने सभी अधिकारियों और पुलिस कर्मियों को संबोधित किया। डीजीपी ने कहा कि पुलिस को विधि सम्मत तरीके से शक्ति प्राप्त है। साइबर अपराध में वृद्धि हो रही है। स्मार्ट फोन में पूरी दूनिया समा गया है। दुनिया ग्लोबल गांव बन गया है। आर्थिक जगत में जो पहले सुविधाएं नहीं थी वह भी मिलने लगी हैं। उनका कहना है कि डिजिटल युग की शुरुआत हो गई है। आप कहीं से भी विवेचना आदि से जुड़ी जानकारी ले सकते हैं। सूचना क्रांति जनता की बेहतरी के लिए है। लेकिन कुछ लोग इसका गलत इस्तेमाल करने लगे है। डीजीपी ने कहा कि हर आदमी के पास कंप्यूटर है, लेकिन जागरूकता नहीं है। जिसका फायदा अपराधी अपराध करने के लिए उठा रहे हैं। उनका कहना है कि हमें पारंपरिक विवेचना की क्षमता वृद्धि के साथ ही साइबर क्राइम इनवेस्टिगेशन के बारे में भी जानना होगा। इसके साथ ही उन्होंने कहा कि थाने में मुकदमे दर्ज न होने से लोग परेशान होते हैं, जिससे पुलिस की परेशानी तो बढ़ेगी ही साथ ही अपराध में भी वृद्धि होगी।