प्रवासियों को वापस लाएं सरकार, उनकी हिम्मत टूट रहीः हरीश रावत

देहरादून, कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और उत्तराखंड के पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत ने मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत से बाहरी प्रदेशों में फंसे उत्तराखंड के लोगों की वापसी का बंदोबस्त करने की मांग की है। उन्होंने इसको लेकर एक ई-पत्र मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत को भेजा है। ई-पत्र में हरदा ने लिखा है कि मैं मिलकर
 | 
प्रवासियों को वापस लाएं सरकार, उनकी हिम्मत टूट रहीः हरीश रावत
देहरादून, कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और उत्तराखंड के पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत ने मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत से बाहरी प्रदेशों में फंसे उत्तराखंड के लोगों की वापसी का बंदोबस्त करने की मांग की है। उन्होंने इसको लेकर एक ई-पत्र मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत को भेजा है।
ई-पत्र में हरदा ने लिखा है कि मैं मिलकर आपको चिट्ठी/पत्र नहीं भेज रहा, इसलिए मुझे माफ करें। एक ई-पत्र भेज रहा हूं। यह पत्र अपने उन हजारों भाइयों व बहनों के लिये है, जो देश के विभिन्न हिस्सों में कमाने, खाने के लिये गये थे और हमें भी कुछ भेजते थे। हमारी अर्थव्यवस्था उन पर टिकी थी। आज उन पर गंभीर संकट आ गया है, जो होटलों से लेकर के बहुत सारे ऐसे छोटे-छोटे कारखानों और छोटे-2 उद्यमों में काम करते थे, उनका काम अचानक छूट गया है। उनके पास पैसे नहीं हैं। किसी तरीके से वो अभी तक अपना पेट पाल रहे थे। लेकिन अब उनके पास कुछ नहीं बचा है। यूपी और मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री अपने प्रदेश के प्रवासियों की वापसी का प्रबंधन कर रहे हैं। तो उत्तराखंड सरकार को इस दिशा में कदम उठाना चाहिए और बाहरी प्रदेशों में फंसे उत्तराखंड के लोगों को अपने राज्य में वापस लाना चाहिए। हरदा ने कहा कि यह लोग वहां भी क्वारंटाइन हैं और उत्तराखंड लाकर के भले ही उनको क्वारंटाइन में रखिए। लेकिन उन्हें लाइये जरूर. अब उनकी आशाएं, उनकी हिम्मत टूट रही है।