डॉ आरके जी एम सी हॉस्पिटल से निकाले 43 स्टाफ नर्सेस को तुरंत बहाल किया जाये :Rajeev Rana

 | 
डॉ आरके जी एम सी हॉस्पिटल से निकाले 43 स्टाफ नर्सेस को तुरंत बहाल किया जाये :Rajeev Rana

शिमला :  मेडिकल कॉलेज टांडा व हमीरपुर से 155 स्टाफ नर्सेस ने सामुहिक रूप से कांग्रेस महासचिव व हि प्र भवन एवं अन्य संनिर्माण कामगार यूनियन इंटक के प्रदेश कार्यकारी अध्यक्ष राजीव राणा से मुलाकात की और ज्ञापन पत्र सौंपा।
राजीव राणा ने प्रेसवार्ता में कहा कि  जय राम सरकार कर्मचारियों की हितैषी होने का झूठा नाटक करती है,जुलाई 2019 में राधा कृष्णन मेडिकल कॉलेज हमीरपुर में 43 नर्सेस को आउटसोर्स के माध्यम से रखा गया था, किन्तु 17 जून 2021 को इन्हें बिना सूचित किये नौकरी से मुक्त कर दिया, राणा ने कहा कि इन आउटसोर्स कर्मचारियों ने दिन रात वैश्विक महामारी कोरोना में  ड्यूटी की और 75 प्रतिशत नर्सेस कोविड पोसिटिव भी हुई,अपनी जान जोखिम में डाला, जहाँ एक तरफ कोविड काल मे इनके ऊपर फूल बरसाए इन्हें फ्रन्ट लाइन बर्कर्स का दर्जा दिया वहीँ इंनकी नौकरी छीन कर जय राम सरकार ने अच्छा तोहफ़ा दिया।
राणा ने तीखे व्यंग्य में कहा कि जय राम सरकार बताए कि ऐसी क्या मजबूरी हो गयी है कि आप सरकार को इन्हें सेवायों से मुक्त करना पड़ा।
राणा ने कहा कि सरकार 17 तारीख को आउटसोर्स कर्मचारियों को निकालती है, और 22 तारीख को आउटसोर्स कर्मचारियों की भर्ती का झूठा ऐलान करती है।
इससे साफ प्रतीत होता है कि जय राम सरकार का दिवालिया निकल चुका है।राणा ने कहा कि दूसरी ओर सरकार पिछले चार बर्षों में आउटसोर्सिंग कर्मचारियों के लिये कोई स्थाई नीति नही बना पाई।
राणा ने सरकार को चेताया कि शीघ्र ही इन43 कर्मचारियों की सेवाएं पुनः बहाल की जाए अन्यथा परिणाम भुक्तने को तैयार रहें, राणा ने कहा कि अगर सरकार नही मानती तो सचिवालय के सामने मुख्यमंत्री का घेराव होगा।वहीं आउटसोर्सिंग कर्मचारियों ने भी अपने अपने विचार रखे और कहा कि मुख्यमंत्री जय राम से मिले लेकिन हमें कुछ भी सकारात्मक जबाब सरकार की ओर से नही आया। अब अगर सरकार कुछ नही करती तो इंटक की ओर से हम ये लड़ाई निरन्तर लड़ेंगे।