दून स्कूल के छात्रों ने साबित की काबिलियत

देहरादून : दून स्कूल के 12वीं कक्षा के दो छात्रों ने जवाहर लाल नेहरू यूनिवर्सिटी में आयोजित अंतरराष्ट्रीय सम्मेलन में अपनी काबिलियत साबित की। सम्मेलन में जो शोध छात्रों ने प्रस्तुत किए उनको जर्नल ऑफ मटेरियल साइंस एंड मैकेनिकल इंजीनियरिंग में भी प्रकाशित किया गया है। छात्र आयुश चौधरी व तारुष बंसल ने अपने
 | 
दून स्कूल के छात्रों ने साबित की काबिलियत

देहरादून : दून स्कूल के 12वीं कक्षा के दो छात्रों ने जवाहर लाल नेहरू यूनिवर्सिटी में आयोजित अंतरराष्ट्रीय सम्मेलन में अपनी काबिलियत साबित की। सम्मेलन में जो शोध छात्रों ने प्रस्तुत किए उनको जर्नल ऑफ मटेरियल साइंस एंड मैकेनिकल इंजीनियरिंग में भी प्रकाशित किया गया है।

 

छात्र आयुश चौधरी व तारुष बंसल ने अपने शिक्षक ज्ञानेश्वरन गोमथी नयागम के साथ ‘मैकेनिकल, मैटेरियल, औद्योगिक, ऑटोमोटिव, वैमानिकी और नैनो प्रौद्योगिकी में अभिनव अनुसंधान’ विषय पर आधारित इस सम्मेलन में भाग लिया।
आयुश और तारुश को उनके दो शोध पत्रों को प्रस्तुत करने के लिए बुलाया गया था। उन्होंने ‘इफेक्ट ऑफ होल साइज ऑन ड्रेनेज टाइम ऑफ बॉटल’ और ‘इफेक्टिव डेंसिटी ऑफ क्रम्बल्ड पेपर बॉल्स’ शीर्षक से शोध प्रस्तुत किया। पहले शोध में गैर-बेलनाकार तरल कंटेनरों की जल निकासी का अध्ययन कर उसका मूल्यांकन किया गया है।
यह अपनी तरह का पहला अध्ययन है, क्योंकि नॉन यूनिफॉर्म ड्रेनेज पर कोई शोध प्रकाशित नहीं हुआ है। दूसरे शोध में क्रम्बल्ड पेपर के भौतिक गुणों का अध्ययन किया गया है। इसमें यह देखा गया कि यह कागज की अप्रयुक्त शीट्स से कैसे भिन्न है। जिसके माध्यम से अपशिष्ट प्रबंधन और कई अभिनव प्रयोगों में मदद मिल सकती है।