आइटीबीपी के डीजी ने चीन सीमा पर बढ़ाया जवानों का हौसला

पिथौरागढ़ : भारत तिब्बत सीमा पुलिस के महानिदेशक आरके पचनंदा ने भारत-चीन सीमा पर स्थित अग्रिम चौकियों का जायजा लिया। उन्होंने हिमवीरों का हौसला बढ़ाते हुए कहा कि अग्रिम चौकियों पर तैनात जवान बखूबी अपनों दायित्वों का निर्वहन कर रहे हैं। सीमा पर कराकोरम से चेपला तक सीमा की सुरक्षा पर जवानों की पैनी नजर है।
 | 
आइटीबीपी के डीजी ने चीन सीमा पर बढ़ाया जवानों का हौसला

पिथौरागढ़ : भारत तिब्बत सीमा पुलिस के महानिदेशक आरके पचनंदा ने भारत-चीन सीमा पर स्थित अग्रिम चौकियों का जायजा लिया। उन्होंने हिमवीरों का हौसला बढ़ाते हुए कहा कि अग्रिम चौकियों पर तैनात जवान बखूबी अपनों दायित्वों का निर्वहन कर रहे हैं। सीमा पर कराकोरम से चेपला तक सीमा की सुरक्षा पर जवानों की पैनी नजर है।

डीजी पचनंदा हेलीकॉप्टर से सीधे उच्च हिमालय स्थित अग्रिम चौकी गुंजी पहुंचे। जहां उन्होंने बर्फ के बीच तैनात हिमवीरों से भेंट की और उनकी समस्याएं सुनीं। इसके अलावा उन्होंने 7वीं वाहिनी मिर्थी, 14 वीं वाहिनी जाजरदेवल और 36वीं वाहिनी लोहाघाट के अंतर्गत आने वाली अग्रिम चौकियों का भी भ्रमण किया। अग्रिम चौकियों का भ्रमण करने के बाद वह 14वीं वाहिनी मुख्यालय जाजरदेवल पिथौरागढ़ पहुंचे। जहां पर उन्होंने तीनों बटालियनों के हिमवीरों को संबोधित किया।

पचनंदा ने कहा कि किसी भी बल के उत्कृष्ट बनने में समय लगता है। जिसमें बल के अधिकारियों से लेकर जवानों का सहयोग रहता है। आइटीबीपी का कार्यक्षेत्र अति दुर्गम है। हिमवीरों को अत्यधिक चुनौती वाले क्षेत्रों में कार्य करना पड़ता है। इसके लिए जवानों और अधिकारियों का स्वस्थ रहना आवश्यक है।